>अभिनव राजस्थान की कार्ययोजना

>

अभिनव राजस्थान की कार्ययोजना
पिछले पृष्ठ पर आपने अभिनव राजस्थान की अवधारणा के बारे में पढ़ा है। आदर्शवादी जैसी लगती इस अवधारणा को प्रत्येक पाठक चाहेगा कि अमल होते देखा जाये। लेकिन सदियों से अविश्वास और निराशा से भरे मन को यह सहज नहीं लगता है। हमें तो यह भी एक बड़ी उपलब्धि लगती है, जब कोई सरकारी अधिकारी या कर्मचारी रिश्वत नहीं लेता है। जबकि पश्चिमी विकसित देशों में इस पर किसी को अचरज नहीं होता है। यह जो धारणा राजस्थान की आपके सामने रखी है, उसे आप कल्पना कह सकते हैं, परन्तु पश्चिमी जगत का नागरिक को यह कहेगा कि इसमें खास क्या है। वह कहेगा, अभिनव राजस्थान में वर्णित व्यवस्था तो हमारे यहाँ पर पहले से ही है, जबकि हम इसे असंभव बताकर पल्ला झाड़ते हैं। इसलिए यहाँ हम हमारी कार्ययोजना पर प्रकाश डालना चाहेंगे।
सफल अभियान की ज़रूरतें अभिनव राजस्थान की हमारी कार्ययोजना के कुछ बिन्दु पहले स्पष्ट रूप से जान लें :
1. इस कार्ययोजना के केन्द्र में बुद्धिजीवी वर्ग होगा।
2. यह पूर्णतया व्यावहारिक होगी।
3. यह अभियान पूर्णतया सादगी पर आधारित होगा और इसके लिए वित्त व्यवस्था अनूठी होगी।
4. इसमें दायित्व होंगे, परन्तु पदों की महिमा नहीं होगी। प्रत्येक पद और दायित्व महत्वपूर्ण होगा।
5. इसका कोई बंधा हुआ संविधान न होकर इसमें खुलापन रहेगा, और यथा समय परिवर्तनों का समावेश होगा।

विस्तार ..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: